जब्बे खैना पिना तब्बे बाबाक लेहे अ‍ैना

थारु समाजमे पुर्खापुरनिया से बोली बचन मे प्रयोग हुईति आईल धेउरे कहकुत मनसे एकथो यी फेन होवै ।

जब कोई कुछ मजा काम खोब मन लगाके करती रहथैं , ठिक उहे समयमे कुछ कारणवस् उ काम करे नै सेक्ना मनेकि कहु जैना होजिना, बलौवा अजिना कलसे उ समय यी कहकुत “ जब्बे खैना पिना तब्बे बाबाक लेहे अ‍ैना ं” कहके प्रयोग करजाईथ ।

उदाहरण के लग अब्बा भरखर अपनेन के थारुन के डट कम खोलके हेरती , सिखति अपनेनहे मनपरल ठिक उह समयमे लाईन चलगिल या मोवाईल के व्यट्री ओरागैल कलेसे यी कहकुत कहे सेक्थी ।

लेखक:- रबिना चौधरी

जनआवाजको टिप्पणीहरू

पाछेक साहित्य

भाषिक मृत्युसंगे पहिचानके सवाल

भाषिक मृत्युसंगे पहिचानके सवालएक जाने कले रहैं, महिन हेरके कोइ मै थारु हो कहे सेकी ? मोर पहिरन हेरलेसे आधुनिक समय अन्सारके कोट पाइन्ट लगैठु । आब अप्नही कहि


उर्मिला गम्वा थारु

मुक्त कमैया थारु, परम्परागत पेशा ओ प्रभाव

मुक्त कमैया थारु, परम्परागत पेशा ओ प्रभावकमैया प्रथा पश्चिम नेपालके दाङ से कंचनपुर सम फैलल डास प्रथा जस्टे हो । कमैया विशेष कैके घरके काम ओ खेतीपाती कामके


अन्जेल कुश्मी

थारु बोली जट्टिक उसिट लागठ, का ?

थारु बोली जट्टिक उसिट लागठ, का ?जबजब आँग ढिकठ, जिभ स्वाद नैपाइ लागठ, टब लिरौसीसे अन्सार लगाइ सेक्जाइठ कि जिउ चुम्मर नैहो, जीउक भिट्रि पुर्जम कुछ ना कुछ गरबर


शेखर दहित