रानाथारू साहित्य जग : एक हरानो चलन

एक दिनकी बात हए,जब मए घरसे निकरो तओ तमान आदमी अच्छे–अच्छे कपडा लगाएक समरके जात देखो । महुँ उनके पच्छु–पच्छु चलपडो । एक घरमे बहुत भीड लगि देखो । जाके संगए हुँवा बडा रमझम होत देखके मिर मनमे उमंग आओ । सब जनी शान्त से देखत रहएँ । यज्ञमे दुलहा दुलहीन् बैठे, जौडहीँ एक बडा लम्बो आरो बारो खम्बा बाके चारौओर दिया पजरएँ । मए सोचो ज ऐसो का चिज हएँरु ? मिर मनमे खट्कन लागो फिर जौडही एक आदमी से पुछो, बिहाको जग हए कर के बताइ । बिहा देखके हम घर घैन आनके ताहीं शुरू कर दए । मए मनए मनमे जग जग …करत घर पहुचगओ ।

मिर मनमे रहो नाएगओ तौ मए ऐयासे पुछ डारो । कहि तेरू भैयाकी बिहा मे दैबुढ्नी जग बारो यज्ञ मनाइ हए । अब त घरी–घरी मनमे प्रश्न उठन लागो । काहे मनात हएँ ? बच्चा जन्मत हएत बाके शरिरमे अनेकौं किसिमके रोग व्याधी के कारणसे लक्षण दिखात हएँ , बच्चा जिनको कोइ आसरा नरहिजात हए । जैसेकी शरिर भर सेते(सेते झल्का जल–जल जाडो भरो , ऐयाको दूध नाए पिपात, रोत रहात जे ऐसे तमान रोगनके इलाज करान ताहीँ कोइ ऐसो अस्पताल नखुली रहएँ ।

कोइत जल्दिए सठी करदेत रहएँ,काहेकी पाँतमे पड् जएहयत् अपनो देउधाम मे आए के अच्छो हुइजए हए सोचत रहएँ । कोइ कोइ त मुण्डन , कोई यज्ञ और कोइत जग यज्ञ मन्नत मागत रहएँ अपने भगवान् से,बे अच्छे हुईजात रहएँत् जे सब करन पडत रहए । जे ऐसे सब दुवा खास करके दैबुढ्नी भगवान् से मागत रहए । मुण्डन बच्चा थुर खबर और दौड धुप करन बारो हुईजात हएत् अपने नातपात,आसपरोसिन् के लैके जाएक कोई बकरा मनात त कोई मुर्गा त कोई सादा मुन्डन करत हएँ ।

अभए भी चलन चल्ती मे हए,बच्चा को मण्डन खास करके बच्चा को मुमा करत हए और पिच्छु से बा कि फुवा अचरा रोकत हए । बच्चा को मुण्डन करो भओ बार दैबुढ्नी नदिया मे जाएक डुबकनी लैके छोड देत हए । बहे मुण्डन करे भए बकरा,मुर्गा को भण्डारा खाए के सब जनी अपने अपने घरे आएजात हएँ । जब बच्चा सहि सलामत से जवान् हुईजात हएत् बा के एक दिन बिहाको लगन होत हए । सत्यनार ायण को कथा होत हए । कथामे चारौ तरफ केराको पटपटा मे २५–२५ दिया और बिचमे १ दिया, जौडहीं कुरैलाको एक हँगा गाड के दुल्हा दुल्हीन् को बिहा करो जात हए ।

खास कर के कथामे एक सौ एक दिया पजारत हएँ,बहेस् यज्ञ कहात हएँ। बालक जब स्यानो होत हए तओ सबके नजरमे कि लौडा लौडिया जवान हुइगए , यिनकी बिहा करन कि उमर हुईगई हए कर के कहन लग्जात हएँ । दैबुढ्नी को मन्नत अनुसार एक दिन जग यज्ञमे दुल्हा दुल्हिन को बिहा होत हए । सत्यनारायण को पूजा करबात हएँ । घरके ठिक अग्गु पूजाके जौडही एक सौ एक सय एक दिया पजारन बारो का को खम्बा गडाएके यज्ञ करत हएँ । खम्बा मे चारौ तरफ और चुटियामे लगाएके एक सौ एक दिया पजार के रमझमके साथ बिहा करत हएँ ।

उजियाराे रानाथारू डटकम कि किताब मैसे

बेलौरी न.पा.–६, भकुन्ड,

उजियाराे रानाथारू डटकम कि किताब मैसे

जनाअवजको टिप्पणीहरू

पाछेक साहित्य

कपिलवस्तुहे चिठ्ठी

प्यारी कपिलवस्तु ! ढेर ढेर सम्झना ओ डन्डुर डन्डुर मैया बा कैलालीक् तरफसे । आधा बरस होगैल कुछ हाल खबर नै पठैले हुइटो । कहाँ हेरा गैलो कि कहोंरो व्यस्त बटो कि


सागर कुश्मी “संगत”

जय राम जी की । तोहार प्यारा कैलाली सागर कुश्मी “संगत”

दो नम्बरी भरभट्टामे एक दिन

हुईना टे शहर बजार ओर दो नम्बरी गाडी नाई चल्लेसे फेन गाउँघर ओर अभिनसम लुकछुपके यि मेरिक गाडी चलल् देखजाईठ् । अकसर कैके यी मेरिक भरभट्टा गाउँघर ओर बहुट कुदट्


– राम दहित

– राम दहित

डक्टरुवा ओ बिरम्ह्या

एकठो बेराम मनैया डक्टरुवाक थन गइल,उ मनैयाहे रहिस हेग्नी पकर्ले !डक्टरुवा : का हुईथ ?बिरम्ह्या : महिन हे हेग्नी पकेर्ले बा हजुर ।डक्टरुवा : कैसिन हेगाइथ ?बिरम्ह्या


- सुबास चौधरी

- सुबास चौधरी